बदलते समय के साथ शिक्षा में बहुत सारे परिवर्तन देखने को मिले हैं। जब से संपूर्ण विश्व कोरोनावायरस की चपेट में आया है, तब से भारतीय शिक्षा में बहुत परिवर्तन हुए हैं। इस महामारी के कारण कॉलेज तथा स्कूल बंद हो गए। जिसकी वजह से स्कूली तथा कॉलेज शिक्षा को पूरी तरह से बंद करना पड़ गया, लेकिन आज भी शिक्षा का महत्व पूरी तरह से पहले की तरह बरकरार है।

बदलते समय के साथ शिक्षा में आए परिवर्तन -

पहले स्कूल तथा कॉलेज में ऑफलाइन शिक्षा दी जाती थी, लेकिन आज के समय में ऑनलाइन शिक्षा काफी तेजी से बढ़ रही है। बदलते समय के साथ ऑनलाइन शिक्षा को अधिक महत्व दिया जाता है, क्योंकि आज भी कोरोना महामारी की लहर चल रही है। जिसकी वजह से बच्चों के भविष्य को देखते हुए स्कूल तथा कॉलेजों में ऑनलाइन शिक्षा की सुविधा शुरू की गई है। कोरोना महामारी से पहले छात्रों को शिक्षा ग्रहण करने के लिए स्कूल जाना पड़ता था लेकिन इस महामारी के बाद से ही विद्यार्थी घर बैठकर भी मोबाइल तथा लैपटॉप के द्वारा शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

अब विद्यार्थी घर बैठकर भी ऑनलाइन ही अपनी कक्षा का रजिस्ट्रेशन करवा सकता है तथा लैपटॉप तथा मोबाइल के द्वारा ऑनलाइन ही शिक्षा प्राप्त कर सकता है। इस प्रकार शिक्षा ग्रहण करने से विद्यार्थी को काफी आसानी होती है। क्योंकि उसे स्कूल तथा कॉलेज जाने के लिए अपनी पूरी किताबों का बोझ उठाने की जरूरत नहीं है। आप सभी को पता होगा कि कोरोना महामारी के कारण कक्षा 10 तथा 12 के विद्यार्थियों की बोर्ड परीक्षा को निरस्त कर दिया था तथा सभी छात्रों को बिना परीक्षा दिए ही उर्तीण कर दिया गया था।

वैसे देखे तो वर्तमान समय में ऑनलाइन शिक्षा ही सबसे अच्छी है, लेकिन कॉलेजों में पढ़ाई करने वाले छात्रों पर ऑनलाइन शिक्षा के कारण प्रैक्टिकल पेपर देने तथा उनकी सोचने की क्षमता पर काफी असर पड़ा है। कक्षा 12 तक पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए स्कूल नहीं खुलने के कारण उनकी शिक्षा पर भी थोड़ा बहुत असर पड़ सकता है, लेकिन अगर छात्रों के माता-पिता उनकी पढ़ाई के लिए एक अच्छा माहौल तैयार करें तो उन्हें कोई भी परेशानी नहीं होगी।

ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए किसी भी प्रकार की कोई भी असुविधा नहीं है, लेकिन छात्रों के नॉलेज को बढ़ाने के लिए किसी ना किसी प्रकार स्कूल की जरूरत पड़ती है। ऑनलाइन शिक्षा के कारण छात्र अपना सामान्य ज्ञान तो आसानी से बढ़ा सकते हैं लेकिन प्रैक्टिकल पेपर, ड्राइंग पेपर आदि तैयार करने की जानकारी हासिल नहीं कर सकते हैं। इस ऑनलाइन शिक्षा से जोड़ने वाले कक्षा 12 तक के छात्रों के लिए स्कूली शिक्षा बहुत जरूरी है। ऑनलाइन पढ़ाई के कारण उनके भविष्य पर काफी असर पड़ सकता है, क्योंकि ऐसे छात्रों को बाहरी सामान्य ज्ञान की जानकारी नहीं हो पाते हैं।

इस बात को तो आप सभी जानते हैं कि ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए लैपटाप तथा मोबाइल की जरूरत होगी और लंबे समय तक इनका इस्तेमाल करने पर छात्रों की आंखों पर असर पड़ेगा, जो उनके स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक है। इसलिए स्कूल तथा कॉलेज शिक्षा का होना भी बहुत जरूरी है। क्योंकि छोटे बच्चों जैसे कक्षा 12 तक की पढ़ाई करने वाले छात्रों को मोबाइल खरीद कर देना उनकी पढ़ाई पर विपरीत असर डाल सकता है।

हम सब जानते हैं कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऑनलाइन पढ़ाई के लिए मोबाइल खरीद लेते हैं, लेकिन माता-पिता की अच्छी देखरेख न होने की वजह से मोबाइल का दुरुपयोग करने लग जाते हैं। जिसके कारण ऐसे छात्र पढ़ाई के मार्ग को भूल कर सोशल मीडिया तथा ऑनलाइन गेमिंग पर गुमराह हो जाते हैं। इसलिए बच्चों की पढ़ाई के लिए मोबाइल खरीदना कोई बुरी बात नहीं है, लेकिन उन पर नजर नहीं रखना हमारी सबसे बड़ी गलती होती है। जिसकी वजह से हमारे बच्चे अपने भविष्य के साथ खिलवाड़ करते रहते हैं।

मैं यह नहीं कहता कि ऑनलाइन शिक्षा गलत है लेकिन इसका इस्तेमाल सही तरीके से करना चाहिए। क्योंकि ऑनलाइन शिक्षा वर्तमान समय में बच्चों का भविष्य तैयार कर रही है, लेकिन बच्चों के माता-पिता की देखरेख नहीं होने की वजह से हमारे बच्चे शिक्षा का मार्ग भूल रहे हैं। इसलिए जब तक स्कूल तथा कॉलेज नहीं खुल पाए तब तक ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण कीजिए, लेकिन सिर्फ ऑनलाइन शिक्षा ही ग्रहण कीजिए। सोशल मीडिया, गेमिंग आदि में अपना पढ़ाई करने का समय बर्बाद मत कीजिए।

बदलते समय के साथ शिक्षा में कई तरह के बदलाव हो गए हैं, सबसे अधिक बदलाव ऑनलाइन शिक्षा में हुआ है। जब से भारत देश में कोरोना महामारी का दौर चला है, तब से ही ऑनलाइन शिक्षा का प्रचलन शुरू हो गया है और यह काफी तेजी से आगे बढ़ता चला गया। वर्तमान समय में गरीब तथा कमजोर बच्चों के लिए कई ऐसे ऑनलाइन प्लेटफार्म जो बच्चों को पूरी तरह से भविष्य में आगे बढ़ने के लिए मुफ्त शिक्षा ग्रहण करवा रहे हैं।

Read More - ऑनलाइन पढ़ाई से होने वाले फायदे और नुकसान

Online padhai kaise kare - ऑनलाइन क्लास कैसे करे?

Post a Comment

Previous Post Next Post